Chandigarh mayor elections में अधिकारी ने ऐसा क्या किया कि भड़क गए CJI? मुकदमा तक चलाने की दी चेतावनी

Chandigarh mayor elections

Chandigarh mayor elections – चंडीगढ़ मेयर चुनाव में पीठासीन अधिकारी रहे अनिल मसीह का एक और वीडियो सामने आया है। नए वीडियो में साफ देखा जा सकता है कि वह बैलेट पेपर पर पेन का इस्तेमाल कर रहे हैं और कैमरे की तरफ देखते हुए बैलेट को टोकरी में रख देते हैं. उनके ऐसा करने पर कोर्ट में चीफ जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ नाराज हो गए.

Chandigarh mayor elections

—-Chandigarh mayor elections

चंडीगढ़ मेयर चुनाव में कथित धांधली के मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को नाराजगी जताई. चीफ जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ ने कहा कि लोकतंत्र की हत्या हो रही है. इसकी इजाजत नहीं दी जा सकती. उन्होंने पीठासीन कार्यालय के उस वीडियो पर भी टिप्पणी की जिसमें वह कैमरे की ओर देखते हुए मतपत्र पर कलम चला रहे हैं. ऐसा करते हुए उनका एक और वीडियो सामने आया है जिसमें उन्हें पेन का इस्तेमाल करते हुए साफ देखा जा सकता है.

आम आदमी पार्टी ने सुप्रीम कोर्ट में चुनाव नतीजे रद्द करने, सारे रिकॉर्ड जब्त करने और नए मेयर के कामकाज पर रोक लगाने की मांग की थी. इस मामले की सुनवाई आज यानी सोमवार को चीफ जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की अगुवाई में तीन जजों ने की बेंच के सामने पीठासीन अधिकारी के वीडियो भी पेश किये गये, जिसे देखकर सीजेआई नाराज हो गये.

—-Chandigarh mayor elections

प्रिसाइडिंग ऑफिसर का नया वीडियो

मेयर चुनाव को लेकर पीठासीन अधिकारी अनिल मसीह के नए वीडियो में देखा जा सकता है कि वह वोट पर क्रॉस साइन करते हुए कैमरे की तरफ देख रहे हैं. फिर उस मतपत्र को टोकरी में रख दिया जाता है. कांग्रेस और आम आदमी पार्टी का दावा है कि उनका गठबंधन मेयर बनेगा. प्रत्याशी की मोहर लगे वोटों को भी इसी तरह काट कर रद्द कर दिया गया. इस वीडियो के सामने आने के बाद लगातार अनिल मसीह के खिलाफ कार्रवाई की मांग की जा रही है.

chandigarh mayor elections

—-Chandigarh mayor elections

चीफ जस्टिस ने मांगी सीसीटीवी फुटेज

वीडियो की ओर इशारा करते हुए चीफ जस्टिस ने कहा, ‘जिस तरह से वह कैमरे की तरफ देख रहे हैं, उन्हें बताएं कि वह सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में हैं।’ पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट के आदेश पर चुनाव की निगरानी सीसीटीवी कैमरों से की गई और पूरी चुनाव प्रक्रिया की रिकॉर्डिंग भी की गई. बताया जा रहा है कि फुटेज को पेनड्राइव में स्टोर कर बेंच को सौंप दिया गया है. चीफ जस्टिस ने इस मामले से जुड़े और वीडियो भी मांगे हैं और अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई करने की चेतावनी भी दी है.

—-Chandigarh mayor elections

मेयर चुनाव पर सुनवाई के बाद SC का आदेश

थ्री जजों की बेंच ने हाई कोर्ट के बैलेट पेपर और वीडियोग्राफी सहित सभी रिकॉर्ड संरक्षित करने का ऑर्डर दिया है। साथ ही नए मेयर की 7 फरवरी को होने वाली पहली मीटिंग पर इंश्युरकाल के लिए रोक लगा दी गई है। आसान शब्दों में कहें तो नए मेयर की जिम्मेदारी पर कोर्ट के अगले आदेश तक रोक रहेगी.

—-Chandigarh mayor elections

मेयर चुनाव पर SC में 19 फरवरी को अगली सुनवाई

मुख्य न्यायाधीश डीवाई चंद्रचूड़ की अगुवाई वाली पीठ ने सोमवार को मामले की सुनवाई के बाद पीठासीन अधिकारी को नोटिस जारी किया. चुनाव में कथित धांधली के मामले को लेकर कॉरपोरेटर कुलदीप कुमार ने कोर्ट में याचिका दायर की थी. वकील अभिषेक मनु सिंघवी वकील के तौर पर कोर्ट के सामने पेश हुए. कोर्ट में मामले की अगली सुनवाई 19 फरवरी को होगी.

—-Chandigarh mayor elections

चंडीगढ़ के मेयर चुनाव में क्या हुआ था?

पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट के आदेश पर 30 जनवरी को मेयर चुनाव हुए थे। पहले चुनाव 18 जनवरी को निर्धारित थे लेकिन पीठासीन अधिकारी ने किसी कारणवश आने से इनकार कर दिया था। बाद में हाई कोर्ट ने कड़ी सुरक्षा के बीच चुनाव कराने का आदेश दिया था.

पूरी प्रक्रिया की रिकार्डिंग करने के भी निर्देश दिये गये। आम आदमी पार्टी और कांग्रेस ने इंडिया अलायंस के तहत चुनाव लड़ा था और दोनों पार्टियों को कुल 20 वोटों का समर्थन हासिल था. हालाँकि बीजेपी के पास एक सांसद के वोट सहित कुल 16 वोट थे, लेकिन पीठासीन अधिकारी ने AAP-कांग्रेस गठबंधन के 8 वोट रद्द कर दिए, जिससे बीजेपी को चुनाव जीत मिल गई। इसके विरोध में आप-कांग्रेस सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई हैं.

—-Chandigarh mayor elections

यह भी पढ़ें – RBI banned Paytm Payments Bank: भारतीय रिजर्व बैंक ने Paytm पेमेंट्स बैंक पर क्यों लगाया प्रतिबंध 2024

अधिक जानकारी के लिए  Graphic Designer News

cji

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top